Narendra Kumar's blog

मौज

शेर निङर है
मार ङालो ।
हाथी ज्यादा खाता है
बेच खाओ ।
मजदूर पैसे मांगता है
बन्धुआ बना लो ।
बच्चा स्कूल हेतु खर्च माँगता है
पढाई छुड़ा दो ।
पढे लिखे लोग सवाल पूछेंगे
शिक्षा का निजिकरण कर दो ।
जो पहले से पढे हुए हैं?
प्रात: भ्रमण के समय निपट लो ।
नागरिक सवाल पूछेंगे
प्रजातंत्र खत्म कर दो ।
मालिक कुछ और ?
मेरे पोस्टर लगवा दो, जिसमें मुझे सबसे बड़ा देशभक्त बोला जाए
ऐवम् मुनादी पिटवा दो कि देश स्वर्ण पक्षी बन चुका है ।

जी हुजूर ।
निकलते समय मैं झुका ताकि उन्हें पता चले की मुझे
अपनों के साथ ऐसा करने में कोई शर्म नहीं है।